Contact Information

Theodore Lowe, Ap #867-859
Sit Rd, Azusa New York

We Are Available 24/ 7. Call Now.

बीते दिन राज्यसभा में जमकर बवाल कटा. वजह थी कृषि बिल. इस बिल को लेकर विपक्षी दलों ने राज्यसभा में तीखी प्रतिक्रिया ज़ाहिर की. मामला तब बिगड़ गया जब विपक्षी दलों के सांसद हाथापाई पर उतर आये. फिर यहीं से माहौल बिगड़ गया. और आज उन माननीय सांसदों को उसका भुगतान करना पड़ा है.

अब बात विस्तार से…

दरअसल, कृषि बिल पर चर्चा के दौरान विपक्षी दलों के सांसदों ने जमकर हंगामा किया था. राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने इस घटना से बेहद नाराज दिखे थे. यही वजह रही कि आज उन्‍होंने हंगामा करने वाले आठ सांसदों को बचे हुए सत्र के लिए निलंबित कर दिया है.

राज्यसभा

सभापति ने सोमवार को सदन की कार्यवाही के दौरान कहा कि कल का दिन राज्‍यसभा के लिए बहुत खराब दिन था. कुछ सदस्‍य सदन के वेल तक आ गए. उपसभापति के साथ धक्‍कामुक्‍की की गई. कुछ सांसदों ने पेपर को फेंका. माइक को तोड़ दिया. रूल बुक को फेंका गया. सभापति ने कहा कि इस घटना से मैं बेहद दुखी हूं. उपसभापति को धमकी दी गई. उनपर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई.

घटना से आहत सभापति ने विपक्षी दलों के 8 सांसदों को निलंबति कर दिया. निलंबित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, सैयद नजीर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव साटव, डोला सेन हैं.

सभापति ने कहा कि उपसभापति के खिलाफ विपक्षी सांसदों की तरफ से लाया गया अविश्‍वास प्रस्‍ताव नियमों के हिसाब से सही नहीं है. सभापति की कार्रवाई के बाद भी सदन में हंगामा जारी रहा.

बता दें कि रविवार को कृषि विधेयकों पर चर्चा के दौरान जमकर हंगामा हुआ. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जवाब से असंतुष्ट कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के सांसद वेल में पहुंच गए. हालांकि, विपक्ष के हंगामे के बीच नरेंद्र सिंह तोमर जवाब देते रहे.

वहीं राज्यसभा में किसान बिल का विरोध कर रहे विपक्षी सांसद ने बिल छीनने की कोशिश की, जिससे उपसभापति का माइक उखड़ गया. हालांकि पास में ही खड़े मार्शल ने उन्हें रोक दिया. इस दौरान विपक्षी दलों के सांसद कृषि बिल के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करते हुए उपसभापति की चेयर तक पहुंच गए.

सदन में हंगामा कर रहे सांसदों ने आसन के सामने लगे माइक को तोड़ दिया. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद डेरक ओ ब्रायन ने उपसभापति के सामने रूल बुक फाड़ दी. इसके बाद राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी गई.

राज्यसभा

वहीं राज्यसभा में रविवार को हंगामे के बाद केंद्रीय मंत्रियों की टीम ने मोर्चा संभाला और प्रेस कॉन्फ्रेंस की. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसी का नाम लिए बिना कहा कि जहां तक वह जानते हैं ऐसा राज्यसभा और लोकसभा के इतिहास में कभी नहीं हुआ. राज्यसभा में होने वाली यह बहुत बड़ी घटना है, जो हुआ वह सदन की गरिमा के खिलाफ था. केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, प्रकाश जावडेकर, थावरचंद गहलोत, पीयूष गोयल और प्रह्लाद जोशी ने भी विपक्ष के रवैये पर सवाल उठाए थे.

अब आज फैसला आ गया…

Share:

administrator