Contact Information

Theodore Lowe, Ap #867-859
Sit Rd, Azusa New York

We Are Available 24/ 7. Call Now.

चाहे जितनी भी पुरानी क्यों न हो. लेकिन जब क्रिकेट की बात आती है, तो प्रशंसक कान खोलकर और आँख फाड़कर किस्से सुनने और देखने पर ज़बरदस्त लुत्फ़ उठाते हैं. तो फिर आज 2 ऐसे किस्सों का ज़िक्र होगा, जिन्हें यकीनन अभी तक आपने नहीं सुना होगा।

पहला।

डेविड बून और बियर के कैन

ऑस्ट्रेलिया के एक महारथी हुए थे. डेविड बून. हालिया दिनों में मैच रेफ़री का काम संभालते हैं. अपने टाइम के बवाल बल्लेबाज़ और शानदार फ़ील्डर डेविड बून. इनके बारे में एक बात फ़ेमस है. ये क्लोज़ फ़ील्डिंग के लिए जाने जाते थे. खासकर शॉर्ट लेग पर. ये कहते हैं कि इन्होंने शॉर्ट लेग पर फ़ील्डिंग करनी इसलिए शुरू की क्यूंकि ये आलसी थे. उस पोज़ीशन पर फ़ील्डिंग करने से इन्हें ज़्यादा दौड़ना नहीं पड़ता था. बून अपनी मूछों के लिए भी जाने जाते थे.

david boon

साल 1989. क्वान्टास एयरलाइन्स कि फ्लाइट हीथ्रो हवाई अड्डे पर उतरी. ये फ्लाइट सिंगापुर से आ रही थी जहां कुछ देर के लिए रुकी थी. इसने सिडनी से उड़ान भरी थी. प्लेन की सवारी नीचे उतरने लगीं तो देखा गया कि बैग रखने वाली ट्रॉली को दो लोग खींच रहे हैं और ट्रॉली में बैग नहीं बल्कि एक तीसरा आदमी बैठा हुआ था.

ऐसा लग रहा था जैसे बेहोश हो गया हो. मालूम पड़ा कि ये ऑस्ट्रेलिया की टीम थी जो कि ऐशेज़ खेलने के लिए इंग्लैंड आई हुई थी. ट्रॉली को डेनिस लिली और ग्रीम वुड खींच रहे थे. ट्रॉली में जो बेहोशी की हालत में बैठा हुआ था वो था रॉड मार्श. ऑस्ट्रेलिया का विकेटकीपर. और वो बेहोश नहीं था बल्कि नशे में चूर था. इतना कि उसे अपने आस-पास की गतिविधियों के बारे में कोई आइडिया ही नहीं था.

इस ‘बेहोशी’ की वजह थी फ्लाइट में पी गई बियर. मार्श ने 25 घंटे से ज़्यादा लम्बी फ्लाइट के दौरान 45 कैन बियर पी डाली थी. ये एक रिकॉर्ड था. अगर ऐसा कोई कहे तो उसकी बात कतई मत मानियेगा. क्यूंकि फ्लाइट में सबसे ज़्यादा बियर पीने का रिकॉर्ड किसी और ने बनाया था. उसी फ्लाइट पर. मार्श के ही साथी ने. डेविड बून ने.

डेविड बून ने फ्लाइट के दौरान 52 कैन बियर पी थी. सारी बियर स्ट्रांग थी. फ्लाइट के दौरान डीन जोन्स, मार्व ह्यूज़, और मार्क टेलर भी बियर पी रहे थे. ये सभी एक साथ कैन खोलते और एक साथ बियर ख़तम कर रहे थे. लेकिन बकौल डीन जोन्स फ्लाइट के सिंगापुर से निकलने तक सभी 22-22 कैन बियर पी चुके थे. थोड़ी देर में उन्हें नींद आ गयी और उनकी नींद काफ़ी देर बाद पैसेंजर्स की तालियों से खुली. असल में फ्लाइट के कप्तान ने पब्लिक अनाउन्समेंट सिस्टम पर सभी को ये बताया था कि बून ने 44 कैन बियर पी डाली थी जो कि फ्लाइट का रिकॉर्ड था. इसके बाद बाकी बैठे यात्रियों ने खूब शोर मचाया.

इसी फ्लाइट में कप्तान ऐलेन बॉर्डर भी थे और ऑस्ट्रेलिया के सेलेक्टर्स के चेयरमैन भी थे. ये सारा काम इन दोनों की नज़रों से दूर हो रहा था. असल में बॉर्डर अपनी टीम को फ़िट रखने की पूरी कोशिश कर रहे थे और (बकौल स्टीव वॉ) खिलाड़ियों को समझाते थे कि हैमबर्गर में पत्ता गोभी होती है सिर्फ़ इसलिए उसे हेल्दी कहा जाए ऐसा सही नहीं है. लेकिन इस अनाउन्समेंट के बाद उनके कान खड़े हो गए पर अब वो कुछ नहीं कर सकते थे. हीथ्रो पर जब फ्लाइट उतरी तो फ्लाइट अटेंडेंट्स ने बताया कि बून ने 52 कैन धकेल लिए थे.

लंडन पहुंचकर टीम प्रेस कांफ्रेंस के लिए गयी जहां बून से एक भी सवाल नहीं पूछा गया. लेकिन इसके ठीक बाद बून एक पार्टी में गए जो कि सीरीज़ के स्पांसर ने रखी थी. सीरीज़ की स्पांसर थी बियर बनाने वाली कंपनी XXXX. ज़ाहिर है कि बून ने यहां भी बियर पी.

इसके बाद बून डेढ़ दिन सोये और उन्होंने दो दिनों तक प्रैक्टिस सेशन में हिस्सा ही नहीं लिया.

दूसरा।
जब स्टीव वॉ ने बगल वाले कमरे में एक सुसाइड कर रहे आदमी की जान बचाई

 

4 जुलाई, 2001. बर्मिंघम. ऐशेज़ शुरू होने में कुछ 24 घंटों का वक़्त ही बाक़ी था. ऑस्ट्रेलिया के कप्तान को बुलाया गया और उन्हें वो गदा दी गयी जो इस बात का सूचक थी कि ऑस्ट्रेलिया टेस्ट मैचों में नंबर एक टीम थी. ये एक अच्छा पल था. लेकिन ऑस्ट्रेलिया के कप्तान का दिमाग अगले दिन में ज़्यादा लगा हुआ था. उस रोज़ प्रैक्टिस करना ऑप्शनल था. पूरे दिन स्टीव वॉ अपने दिमाग में प्लानिंग कर रहे थे. वो खिलाड़ियों से बात कर रहे थे. सीनियर प्लेयर्स पर खासी ज़िम्मेदारी थी.

स्टीव वॉ

रात करीब साढ़े 9 बजे स्टीव वॉ अपने कमरे में थे जब उन्हें एक अजीब सी आवाज़ आती सुनाई दी. पहले पहल उन्हें लगा कि होटल में किसी गेस्ट का बच्चा चिल्ला रहा है. लेकिन फिर भी उन्होंने अपने कमरे की टीवी की आवाज़ धीमी की. कमरे में उनके साथ उनकी पत्नी लायनेट भी थीं. दोनों ने तुरंत ही दूसरे कमरे में सो रहे अपने बच्चों को चेक किया. वो दोनों सो रहे थे. अब स्टीव अपने कमरे से बाहर निकले. आवाज़ लगातार आ रही थी. अब धीरे-धीरे लग रहा था कि ये किसी बच्चे की नहीं बल्कि अच्छे-भले आदमी की है. ऐसा आदमी जो फ़िलहाल कतई अच्छा-भला नहीं जान पड़ रहा था.

कमरे के बाहर निकलते ही गैलरी में कुछ आगे चलने पर स्टीव को एक इंसानी शरीर दिखाई पड़ा. ज़मीन पर गिरा हुआ. हिल रहा था. वो तेज़ी से उसकी ओर बढ़े. आवाज़ उसी शरीर से आ रही थी. अब उसकी चिला कर कही जा रही बात समझ में आ रही थी. वो मदद मांग रहा था. स्टीव जैसे ही उसके सामने पहुंचे तो उन्हें सांप सूंघ गया. उनके सामने एक आदमी पड़ा हुआ था जिसके शरीर पर एक भी कपड़ा नहीं था.

पहले पहल तो स्टीव को ऐसा लगा जैसे नींद में चलता हुआ वो आदमी कहीं का कहीं पहुंच गया था और दोबारा सो गया था. लेकिन फिर जब उन्होंने उसके शरीर पर नज़र डाली तो ऐसा लग रहा था जैसे उसका शरीर रंग छोड़ चुका था. उसकी सांस लगभग उखड़ी हुई थी. साथ ही उसके बाथरूम से एक अजीब सी बू आ रही थी. उसका शरीर आधा कमरे में था और आधा बाहर गैलरी में. स्टीव को समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर वो करें क्या. और अगर उन्हें कुछ करना भी था तो कहां से शुरू करें.

इतने में वहां ऐशेज़ सीरीज़ कवर करने के लिए आया हुआ एक कैमरामैन पहुंचा. उसने तुरंत स्टीव को पहचाना और फिर दोनों ने मिलकर उस आदमी को उठाया. स्टीव अंदर बाथरूम में पहुंचे जहां हर तरफ़ उस आदमी की उल्टी पड़ी हुई थी. बाथरूम में एस्पिरिन की खाली शीशी, शराब की एक बोतल फूटी हुई पड़ी थी और साथ ही एक बड़ा चाकू भी रखा हुआ था. पैरामेडिक्स की टीम आई और उसे होश में लाया गया. ये साफ़ था कि उसने ख़ुदकुशी की कोशिश की थी. वो होश में आते ही ‘मैं मरना चाहता हूं! मुझे मरने दो.’ चिल्ला रहा था. उसके शरीर पर कुछ ऐसे निशान भी थे जो इस बात का सबूत थे कि उसने कई बार ख़ुदकुशी की कोशिश की थी.

स्टीव वॉ को रात भर नींद नहीं आई. वो पूरी रात इस घटना के बारे में सोचते रहे. स्टीव ने ऐशेज़ डायरी में लिखा – ‘मैं पूरी रात यही सोचता रहा कि क्या उस शख्स का कोई परिवार था? क्या उसकी कोई केयर करता था या उसका भविष्य कैसा होगा? सिर्फ़ मैं और लायनेट को ही उस शख्स की आवाज़ क्यूं सुनाई दी? चाहे कुछ भी हो, मैं यही चाह रहा था कि वो इंसान जीवित रहे और कैसे भी बेहतर हो जाए.’

Share:

administrator